उदये होते हुये सूरज का ढल जाना नया साल है। खिल के फूल का डाल से उतर जाना नया साल है। दे के जनम मां का आंचल ममता से भर जाना नया साल है। एक दर्द भूल कर सुख को पेहचान जाना नया साल है।

हैप्पी न्यू ईयर कविता हिंदी में

पूरे विश्व में 1 जनवरी को नया साल बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। सभी लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ अलग-अलग स्थानों पर इक्कठा हो कर नए साल का जश्न मानते हैं। नव वर्ष का जश्न 31 दिसंबर से ही शुरू हो जाती है। 31 दिसंबर की शाम कई जगह छोटे-बड़े कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस दिन लगभग सभी होटल नए साल के स्वागत के लिए विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। कुछ लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ पिकनिक पर घूमने भी जाते हैं। 31 दिसंबर को रात 12 बजे से ही सभी एक दूसरे को नव वर्ष की शुभकामनाएं देते हैं। कुछ लोग इस अवसर पर एक-दूसरे को उपहार भी देते हैं। इस अवसर पर मैसेज के साथ कविताएं भी भेजे जाते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से आप नया साल का कविता देख सकते हैं।

कविता 1

सुनहरे पलों की झंकार,
ले कर आया नया साल।
रंग बिरंगे फूलों की खुशबू,
ले कर आया नया साल।
उमंगों का अनमोल उपहार,
ले कर आया नया साल।
उम्मीदों का नया सवेरा,
ले कर आया नया साल।

कविता 2 

नए साल में नई पहल हो,
कठिन जिंदगी और सरल हो,
जो चलता है वक्त देख कर,
आगे जा कर वही सफल ही,
नए वर्ष का उगता सूरज,
सबके लिए सुनहरा पल हो,
समय हमारा सदा साथ दे,
आगे कुछ ऐसी हलचल हो,
अनसुलझी रह गई जो पहेली,
उसका भी अब हल हो,
नए साल में नई पहल हो,
कठिन जिंदगी और सरल हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *